Home India Delhi Floods: सिर्फ यमुना नदी नहीं है दिल्ली में बाढ़ की वजह,...

Delhi Floods: सिर्फ यमुना नदी नहीं है दिल्ली में बाढ़ की वजह, दर्जनों नालों के बैकफ्लो से भी डूबी देश की राजधानी

33
0

नई दिल्ली: दिल्ली में सिर्फ यमुना नदी के बढ़ते जलस्तर ने बाढ़ जैसे हालात नहीं पैदा किए हैं, बल्कि इसके पीछे का कारण दर्जनों नालों के बैकफ्लो भी है. शुक्रवार को यमुना में गिरने वाले नालों का पानी वापस बहने लगा, जिससे आईटीओ और राजघाट की ओर जाने वाली सड़कों पर कमर तक पानी आ गया. पिछले हफ्ते से, तीव्र मानसून ने शहर पर मुसीबतें ला दी हैं. 8 और 9 जुलाई को सड़कों पर पानी भरने लग गया था. इस दिन राजधानी में 125% बारिश हुई थी. पहाड़ी राज्यों में भारी बारिश के कारण 13 जुलाई को यमुना का जलस्तर रिकॉर्ड 208.66 मीटर तक पहुंच गया और इसका पानी भी दूर तक फैल गया.

हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में कम से कम 23,000 लोगों को निकाला गया है, घरों, व्यवसायों और कमाई को करोड़ों का नुकसान हुआ है. नदी के पार आबादी वाले पूर्वी इलाकों के साथ शहर के चार मुख्य मार्गों में से दो टूट चुकी हैं. शुक्रवार को लौकिक प्याला सुप्रीम कोर्ट, महात्मा गांधी के स्मारक और शहर के सबसे व्यस्त चौराहे आईटीओ के दरवाजे तक बाढ़ जैसे हालात हो गए. इसके पीछे का कारण दर्जनों नालों का बैकफ्लो है, जिसके वजह से शहर में गंदे, बदबूदार पानी का तालाब बन गया.

बाढ़ पर केजरीवाल सरकार ने क्या कहा?
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा “आने वाले कुछ घंटों में दिल्ली के नागरिकों को राहत मिलेगी क्योंकि यमुना नदी में पानी का स्तर कम होना शुरू हो गया है. पिछली रात 208.66 मीटर था और आज 208.38 मीटर है.” लेकिन कल बारिश होने की संभावना है. उन्हें उम्मीद है कि नदी में बाढ़, जो वर्तमान में सबसे गंभीर समस्याओं का कारण है वह कम होगी.

अभी तो और खराब हो सकती है स्थिति
शुक्रवार रात 10 बजे यमुना का जलस्तर घटकर 207.98 मीटर पर आ गया, जो गुरुवार रात 8 बजे रिकॉर्ड इतिहास में सबसे ऊंचे 208.66 मीटर से कम है. अनुमान के मुताबिक, इसमें और गिरावट आनी तय है, लेकिन शनिवार को भी यह खतरे के स्तर से कम से कम 2 मीटर ऊपर बना हुआ है. भारत मौसम विज्ञान विभाग के मौसम अधिकारियों ने सप्ताहांत के लिए येलो अलर्ट जारी करते हुए बारिश होने की संभावना जताई और कहा कि बाढ़ की स्थिति खराब हो सकती है.

LG वीके सक्सेना और CM केजरीवाल ने मरम्मत कार्यों का जायजा लिया
दिल्ली के एलजी वीके सक्सेना और सीएम केजरीवाल ने मरम्मत कार्य का जायजा लेने के लिए आईटीओ का दौरा किया, जिसके लिए दिल्ली सरकार ने बाद में भारतीय सेना को बुलाया. स्थिति का निरीक्षण करने के बाद जब एलजी सक्सेना और सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण मंत्री सौरभ भारद्वाज मीडिया से बातचीत कर रहे थे तो उनके बीच कैमरे पर तीखी नोकझोंक हुई.

यमुना का पानी रोकने के लिए दिल्ली में बनेंगे बांध- मंत्री सौरभ भारद्वाज
दिल्ली के बाढ़ नियंत्रण और सिंचाई मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा, “शहर में पानी को बहने से रोकने के लिए हम एक बांध बनाने की कोशिश कर रहे हैं.” उन्होंने कहा कि इसे हासिल करने के लिए बोरियों का ढेर लगाया जाएगा. शुक्रवार सुबह जैसे ही एलजी और सीएम ने मीडिया को संबोधित किया, भारद्वाज ने कहा कि एनडीआरएफ टीमों का समर्थन देर से मिला. “धन्यवाद, स्थिति बेहतर होती अगर एनडीआरएफ कल रात ही घटनास्थल पर पहुंच जाती. मैं पूरी रात मदद के लिए टीमों को फोन करता रहा लेकिन सुबह तक कोई जवाब नहीं मिला. इस बीच हमारी टीमों ने बिना पलक झपकाए पूरी रात काम किया.”

Delhi Flood Live News: 20 घंटे की कोशिश के बाद ITO बैराज का पहला जाम गेट खुला, यमुना का जलस्तर घटा, लेकिन खतरा बरकरार

बीजेपी ने केजरीवाल सरकार की आलोचना की
दिल्ली भाजपा प्रमुख वीरेंद्र सचदेवा ने कहा कि दिल्ली सरकार ने यमुना और नालों की सफाई पर काम नहीं किया है, जिसके कारण नदी का तल उथला हो गया है. सचदेवा ने कहा, “अरविंद केजरीवाल को यह समझना चाहिए कि राजनीतिक नेता यह तय नहीं करते हैं कि किसी बैराज या बांध से कब और कितना पानी छोड़ा जाएगा, बल्कि तकनीकी प्रशासनिक अधिकारी यह निर्णय लेते हैं.” केजरीवाल ने राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप पर सीधे तौर पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी लेकिन कहा कि भाजपा को इस समय राजनीति में शामिल नहीं होना चाहिए. आईटीओ निरीक्षण के दौरान उन्होंने कहा, ”बीजेपी जो कुछ भी कह रही है, मैं उस पर प्रतिक्रिया नहीं देना चाहता.”

टैग: दिल्ली बाढ़, भारी वर्षा, यमुना नदी

Source link

Previous articleअनुपमा, अनुज या वनराज… आखिर किसे मिलती है सबसे ज्यादा फीस? एक एपिसोड का लाखों वसूलते हैं ये एक्टर
Next articleUPSC CAPF Admit Card 2023 Released at upsc.gov.in: यूपीएससी असिस्टेंट कमांडेंट का एडमिट कार्ड जारी, ऐसे करें डाउनलोड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here