Home India Chandrayaan-3: अगर सफल रहा मिशन तो फिर कब होगी चंद्रमा पर लैंडिंग?...

Chandrayaan-3: अगर सफल रहा मिशन तो फिर कब होगी चंद्रमा पर लैंडिंग? ISRO चीफ ने किया इशारा

38
0

हाइलाइट्स

ISRO चंद्रयान-3 का लॉन्च आज दोपहर श्रीहरिकोटा से करेगा.
चंद्रयान लॉन्च मिशन की उलटी गिनती गुरुवार दोपहर 1 बजे शुरू हुई.
चंद्रयान-3 23 अगस्त के आसपास या चंद्रमा पर लैंडिंग करेगा.

नई दिल्ली. भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी (ISRO) की तय योजना के मुताबिक चंद्रयान-3 (Chandrayaan-3) का लॉन्च आज दोपहर 2:35 बजे श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (Satish Dhawan Space Centre) से होगा. इसरो के अध्यक्ष सोमनाथ और इसके बड़े अधिकारी बुधवार से ही चंद्रयान की लॉन्चिंग की तैयारियों की निगरानी कर रहे हैं. उन्होंने अंतरिक्ष केंद्र के पास चंगलम्मन देवी मंदिर में लॉन्च से पहले प्रार्थना की. इस हाई-प्रोफाइल चंद्रयान लॉन्च मिशन की उलटी गिनती गुरुवार को दोपहर 1 बजे शुरू हुई. गुरुवार दोपहर को सोमनाथ और अंतरिक्ष केंद्र के अधिकारियों ने मंदिर में प्रसाद चढ़ाया और प्रार्थना की. चंद्रयान-3 की लॉन्चिंग इसरो के मजबूत और बड़े रॉकेट LVM3 के जरिये होगी.

इसरो के अध्यक्ष सोमनाथ ने मीडिया से कहा कि ‘चंद्रयान-3 अपनी लंबी यात्रा शुक्रवार को शुरू करेगा और पृथ्वी की परिक्रमा करेगा, इसके बाद यह 30 दिनों में धीरे-धीरे अगले चरण में चंद्रमा की यात्रा करेगा. यदि सब कुछ ठीक रहा, तो हम 23 अगस्त के आसपास या उसके बाद के दिनों में चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग की उम्मीद कर रहे हैं.’ चंद्रयान-1 और चंद्रयान-2 मिशन के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि पहला भारतीय चंद्र मिशन छह महीने से अधिक समय तक चला था और चंद्रमा पर पानी की मौजूदगी पाई थी. जबकि चंद्रयान-2 मिशन में पानी तरल अवस्था में पाया गया था और चंद्रमा पर इसकी पुष्टि भी की.

Chandrayaan 3 Launch Live Streaming: चांद पर उतरने को ISRO तैयार, कब-कहां और कैसे देखें चंद्रयान-3 की लाइव लॉन्चिंग

इसरो के अध्यक्ष सोमनाथ ने कहा कि पिछला प्रत्येक मिशन अपने तरीके से सफल रहा. उन्होंने कहा कि ‘मुझे चंगलम्मा देवी (मंदिर की प्रमुख देवी) के आशीर्वाद की जरूरत है, इसलिए मैं चंद्रयान-3 मिशन की सफलता के लिए प्रार्थना करने के लिए यहां आया हूं.’ इससे पहले दिन में इसरो मुख्यालय के अधिकारियों की एक टीम ने तिरुमाला में प्रतिष्ठित वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर में पूजा-अर्चना की थी. जिसे आमतौर पर तिरूपति मंदिर के रूप में जाना जाता है. महत्वपूर्ण मिशनों को अंजाम देते समय अंतरिक्ष एजेंसियां और उनकी टीमें एक परंपरा का पालन करती हैं, जो उनकी संबंधित संस्कृतियों से प्रेरित होती है.

टैग: चंद्रयान-3, इसरो, इसरो श्रीहरिकोटा स्थान, मिशन चंद्रमा

Source link

Previous articleTMC की लहर में गढ़ भी नहीं बचा पाई BJP, जंगलमहल, नॉर्थ बंगाल में म‍िली करारी हार, स‍िर्फ ग्रामीण चुनाव में चला शुभेंदु का स‍िक्‍का
Next articleBaby Movie Review: विजय देवरकोंडा के भाई ​ने किया इम्प्रेस, सैकंड हाफ खास, लंबा रनटाइम करता है परेशान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here