Home India महाराष्ट्र में अटका मंत्रिमंडल विस्तार, सीएम शिंदे के साथ नहीं बनी बात...

महाराष्ट्र में अटका मंत्रिमंडल विस्तार, सीएम शिंदे के साथ नहीं बनी बात तो अब गृह मंत्री अमित शाह से मिलेंगे अजित पवार

36
0

मयूरेश गणपते
मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, डिप्टी सीएम देवेंद्र फडनवीस और अजीत पवार के बीच कैबिनेट विस्तार और विभागों के बंटवारे पर हुई एक और बैठक बेनतीजा रही. सूत्रों के मुताबिक, पवार अभी भी वित्त मंत्रालय की अपनी मांग पर अड़े हुए हैं. उन्होंने कहा कि वह केंद्रीय गृह मंत्री और वरिष्ठ बीजेपी सांसद अमित शाह से मिलने के लिए बुधवार रात को दिल्ली जाएंगे, जिसके बाद इन मुद्दे हल होने की उम्मीद है.

सूत्रों ने यह भी संकेत दिया कि मंगलवार की बैठक में अजित पवार ने एक बार फिर कैबिनेट विभागों में फेरबदल का प्रस्ताव रखा, लेकिन सीएम शिंदे ने इससे इनकार कर दिया. अजित पवार ने वित्त, सिंचाई, पर्यटन, महिला एवं बाल विकास, सामाजिक न्याय, ग्रामीण विकास आदि विभाग मांगे हैं. सूत्रों ने यह भी बताया कि पवार ने केंद्र में एक कैबिनेट मंत्री का पद भी मांगा है. बताया जाता है कि मुख्यमंत्री पर उनके शिवसेना विधायकों का काफी दबाव है और उन्होंने पवार को स्पष्ट कर दिया कि मंत्रिमंडल विस्तार के बाद विभागों का वितरण किया जाएगा और एनसीपी गुट को सेना कोटे से मंत्रालय नहीं मिलेंगे.

BJP-शिवसेना विधायकों को भी मंत्री बनने की चाह
अजित पवार के नेतृत्व में शरद पवार के खिलाफ बगावत करके बीजेपी-शिवसेना सरकार में शामिल हुए 10 दिन से ज्यादा बीत गए हैं, लेकिन अब उनके साथ मंत्री पद की शपथ लेने वाले 9 एनसीपी विधायकों को कोई विभाग नहीं मिला है.

महाराष्ट्र विधानसभा का मानसून सत्र पांच दिनों में शुरू होने वाला है और इसीलिए अजित पवार सीएम शिंदे पर विभागों की घोषणा करने का दबाव बना रहे हैं. हालांकि सीएम के लिए कैबिनेट का विस्तार करना प्राथमिकता है, क्योंकि शिवसेना और बीजेपी के विधायक पिछले एक साल से कैबिनेट में जगह पाने का इंतजार कर रहे हैं.

एक अनार-सौ बीमार वाली हालत
महाराष्ट्र में अधिकतम 43 कैबिनेट मंत्री हो सकते हैं. अब तक, इनमें से 29 पद भरे जा चुके हैं और मंत्री पद के उम्मीदवारों की सूची लंबी हो गई है. भारतीय जनता पार्टी के एक वरिष्ठ नेता कहते हैं, ‘सीएम शिंदे के लिए कैबिनेट मंत्रियों का चयन करना बहुत मुश्किल काम होगा. ऐसी संभावना है कि वह कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेने वाले विधायकों का चयन करते समय जाति जैसे कारकों पर विचार कर सकते हैं, जिस तरह अजित पवार ने उनके साथ कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ लेने वाले विधायकों का चयन करते समय ओबीसी, एससी-एसटी और अल्पसंख्यकों को प्रतिनिधित्व देने की कोशिश की है.’

पिछले साल उद्धव ठाकरे के खिलाफ विद्रोह के दौरान एकनाथ शिंदे का समर्थन करने वाले निर्दलीय विधायक बच्चू कडू ने नागपुर में संवाददाताओं से कहा, ‘अजित पवार को वित्त विभाग नहीं मिलना चाहिए क्योंकि विधायकों के मन में डर है कि कहीं वह उन्हें उनके निर्वाचन क्षेत्रों के विकास के लिए फंड न दे दें. शिंदे इस ‘ट्रिपल इंजन सरकार’ को चलाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन यह विफल भी हो सकती है या सफल भी हो सकती है.’

वहीं शिवसेना विधायक भरत गोगावले ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि गुरुवार तक कैबिनेट मंत्रियों के नाम और पोर्टफोलियो आवंटन को मंजूरी दे दी जाएगी.

टैग: Ajit Pawar, एकनाथ शिंदे, महाराष्ट्र राजनीति, राकांपा

Source link

Previous articleलगातार फ्लॉप फिल्मों से… लगा अब खत्म होने वाला है करियर, तभी 2018 में एक्टर की आंधी में उड़ गया बॉक्स ऑफिस
Next articleअक्षय की ‘ओएमजी 2’ पर मंडरा रहा खतरा, सेंसर बोर्ड ने लगाई रोक, रिलीज करने का सर्टिफिकेट देने से किया इनकार!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here