Home Entertainment कभी बी ग्रेड फिल्मों में काम करती थीं दीपिका चिखलिया, रामानंद सागर...

कभी बी ग्रेड फिल्मों में काम करती थीं दीपिका चिखलिया, रामानंद सागर ने बदल दी थी जिंदगी, ‘सीता’ बन मिला नेम-फेम लेकिन…

34
0

नई दिल्ली. भगवान राम के किरदार पर बनी और हाल ही में रिलीज हुई फिल्म ‘आदिपुरुष’ को लेकर कई विवाद खड़े हुए. खास तौर पर इसके डायलॉग को लेकर सोशल मीडिया पर तरह-तरह की बातें की जा रही हैं, लेकिन एक समय ऐसा था, जब भगवान राम के चरित्र पर बना सीरियल ‘रामायण’ के राम-लक्ष्मण-सीता को लोग वास्तव में भगवान की तरह देखने लगे थे. रामानंद सागर की रामायण में राम का किरदार निभाने वाले अरुण गोविल और सीता बनीं दीपिका चिखलिया के लोग रियल लाइफ में भी पैर छूने लगे थे. लेकिन क्या आप जानते हैं ‘रामायण’ की ‘सीता’ के लिए यहां तक की जर्नी आसान नहीं थी. क्या आप जानते हैं कि दीपिका फिल्मों के साथ साथ सीलियल्स में भी काम कर चुकी हैं और शायद ही आप जानते होंगे कि उन्होंने बी ग्रेड फिल्मों में भी काम किया.

साल 1987 में छोटे पर्दे पर एक सीरियल आया, जिसका नाम था ‘रामायण’. इस रामायण को रामानंद सागर ने बनाया और इसके किरदारों ने गजब का सम्मान हासिल किया, लेकिन जिन दो कलाकरों की इससे जिंदगी ही बन गईं, वो थे राम का किरदार निभाने वाले अरुण गोविल और सीता बनीं दीपिका चिखलिया. क्यों रामानंद सागर ने इन्हें ही अपने भव्य धारावाहिक के लिए चुना था? इस शो से पहले और इसके बाद कैसा रहा दीपिका का करियर, क्यों सीता का किरदार निभाने के बाद उन्हें बी ग्रेड फिल्मों में काम करना पड़ा. आज आपको देंगे वो जानकारी, जिसको शायद ही आप जानते होंगे.

भारत में देवी का दर्जा प्राप्त करने वाली पहली एक्ट्रेस
दीपिका चिखलिया एक ऐसी एक्ट्रेस हैं, जिन्होंने महज एक सीरियल से भारत में देवी का दर्जा प्राप्त कर लिया और हजारों की संख्या में लोग इनके घर के बाहर इनकी एक झलक पाने को बेताब दिखाई देने लगे. दीपिका का जन्म साल 1965 में मुंबई में हुआ था. इसके पापा सीए थे, जिनका नाम राजेश टी चिखलिया था. ये तीन भाई-बहन थे. भाई हिमांशु और बहन आरती. बचपन से ही मॉडलिंग और एक्टिंग का शौक था. उनके घर के आस-पास कई एड फिल्ममेकर रहते थे. बचपन से ही बेहद खूबसूरत रहीं.

‘सुन मेरी लैला’ से किया डेब्यू
एक बार बचपन में इन्हें एक बाल कलाकार के रूप में सीरियल में काम करने का मौका मिला, लेकिन इनकी पढ़ाई डिस्टर्ब ना हो इसे देखते हुए इनके परिवार ने इस अवसर को ठुकरा दिया. पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की. साल 1983 में आई राजश्री बैनर की फिल्म ‘सुन मेरी लैला’ से डेब्यू की. हालांकि, यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सफल नहीं हो सकी. इसके बाद इन्होंने कई फिल्मों में काम किया जैसे ‘पत्थर’, ‘भगवान दादा’ और ‘घर संसार’. लेकिन इन्हें इसके बाद भी सफलता नहीं मिल सकी.

दीपिका चिखलिया, दीपिका चिखलिया समाचार, दीपिका चिखलिया फिल्में, दीपिका चिखलिया फिल्में, जब दीपिका चिखलिया ने बी ग्रेड फिल्मों में काम किया, दीपिका चिखलिया उर्फ ​​सीता, दीपिका चिखलिया को रामानंद सागर रामायण से नाम और प्रसिद्धि मिली, रामानंद सागर रामायण, रामानंद सागर ने कैसे फाइनल किया नाम सीता के रूप में दीपिका चिखलिया, राकेश खन्ना के साथ दीपिका चिखलिया का काम, रामानंद सागर की रामायण में दीपिका को कैसे कास्ट किया गया, दीपिका चिखलिया ने टीवी सीरियल में काम किया

पहली फ‍िल्‍म ‘ओ मेरी लैला’ के एक सीन में दीपिका च‍िखल‍िया.

क्यों किया हॉरर और बी ग्रेड फिल्मों में काम
लगातार फिल्में फ्लॉप होने के चलते अब इनको बॉलीवुड में काम मिलना ही मुश्किल हो गया था. इस दौरान इन्होंने छोटे पर्दे पर भी कुछ टीवी सीरियल्स में काम किया जिनमें ‘पेइंग गेस्ट’ और ‘विक्रम बेताल’ प्रमुख हैं. दरअसल, इस समय बॉलीवुड में कंपटीशन का दौर चरम पर था और जयाप्रदा, शबाना आजमी, श्रीदेवी, पद्मिनी कोल्हापुरे और रेखा जैसी हीरोइन का करियर अपने चरम पर था. दीपिका का कोई फिल्मी बैकग्राउंड नहीं था. ऐसे में इन्हें फिल्में मिलनी मुश्किल हो रही थी तो इन्होंने हॉरर और बी ग्रेड फिल्मों की ओर रुख कर लिया.

‘चीख’ और ‘रात के अंधेरे’ में किया काम
इन्होंने फिल्म ‘चीख’ और ‘रात के अंधेरे’ में जैसी फिल्में साइन कर ली. इन फिल्मों में इन्होंने कुछ ऐसे बिंदास सीन दिए. इसमें से एक था बाथटब में दिया सीन. दीपिका दिखने में तो बहुत खूबसूरत थी, लेकिन काम नहीं मिलने की वजह से इन्होंने समझौता करना शुरू कर दिया और कई स्तरहीन फिल्मों में काम करने लगी.

‘विक्रम बेताल’ से जब मिला सहारा
करियर डूबने की कगार पर ही था कि इन्हें तब सहारा मिला टीवी सीरियल ‘विक्रम बेताल’ का. इस सीरियल को भी रामानंद सागर ने ही बनाया था और तब वह रामायण पर काम कर रहे ते, जैसे ही उन्हें पता चला कि रामानंद रामायण पर काम कर रहे हैं, तो उन्होंने इस सीरियल में भी काम करने की इच्छा जाहिर की.

दीपिका चिखलिया, दीपिका चिखलिया समाचार, दीपिका चिखलिया फिल्में, दीपिका चिखलिया फिल्में, जब दीपिका चिखलिया ने बी ग्रेड फिल्मों में काम किया, दीपिका चिखलिया उर्फ ​​सीता, दीपिका चिखलिया को रामानंद सागर रामायण, रामानंद सागर रामायण से नाम और प्रसिद्धि मिली, रामानंद सागर ने कैसे नाम फाइनल किया सीता के रूप में दीपिका चिखलिया, राकेश खन्ना के साथ दीपिका चिखलिया का काम, रामानंद सागर की रामायण में दीपिका चिखलिया को कैसे कास्ट किया गया, दीपिका चिखलिया ने टीवी सीरियल में काम किया

रामानंद सागर में सीता का रोल निभाने वाली दीपिका चिखलिया को लोगों ने काफी पसंद किया था.

जब रामानंद सागर ने कहा- ‘कुड़ी तू भी आ जा ऑडिशन कर लेते हैं’
लेकिन रामायण में सीता बनना उनके लिए आसान नहीं रहा. कपिल शर्मा शो में उन्होंने ये राज बताया था. एक्ट्रेस ने बताया था, ‘उस वक्त में रामानंद सागर के साथ ‘विक्रम बेताल’ कर रही थी, जिसकी शूटिंग उनके बंगले पर ही होती थी. एक दिन मुझे पता चला कि वह रामायण शूटिंग के लिए लव कुश के ऑडिशन ले रहे हैं तो मैंने भी उनसे सीरियल में काम करने के लिए कहा. कुछ दिनों बाद मुझे रामानंद जी का फोन आया कि कुड़ी तू भी आ जा सीता के रोल के लिए ऑडिशन कर लेते हैं’. मैंने उनसे कहा, ‘मैं आपके साथ पहले से दो-तीन सीरियल कर रही हूं. इसके बाद भी ऑडिशन लेना है?’ तब उन्होंने कहा, ‘सीता ऐसी लगनी चाहिए कि मुझे इंट्रोड्यूस ना करना पड़े. वह जब अपनी बहनों के साथ चलें तो ऑडियंस खुद पहचान ले कि वह सीता है. इसके बाद मुझे चार-पांच स्क्रीन टेस्ट देने पड़े और आखिरी टेस्ट के बाद मेरा सिलेक्शन हो गया.

एक्टिंग, संजीदगी और सादगी से जीता दिल
इस किरदार खूब विरोध भी हुआ था, क्योंकि वह कई बी ग्रेड फिल्मों में इंटीमेट सींस कर चुकी थीं. ऐसे में कई लोग उन्हें रामायण की सीता के लिए स्वीकार नहीं करना चाहते थे, लेकिन अच्छी बात यह रही कि ये विरोध सीमित रहा. क्योंकि ज्यादातर लोगों को ही जानकारी ही नहीं थी कि यह पहले फिल्मों में काम कर चुकी हैं. फिर उन्होंने अपनी एक्टिंग, संजीदगी और सादगी भरे काम से ऐसा प्रदर्शन किया कि लोगों ने उन्हें माता सीता घोषित कर दिया.

‘सीता’ बनने के बाद जब टूटने लगा सपना
रामायण की सीता बन जहां नेम और फेम दोनों मिला, वहीं, एक नुकसान भी हुआ. इनका एक्ट्रेस बनने का सपना टूटने लगा. क्योंकि इस सीरियल के बाद इन्हें अपनी फिल्म में कोई भी कास्ट करने के लिए तैयार नहीं था. अब इनके ऊपर रोमांटिक सीन भी नहीं फिल्माए जा सकते थे और ना ही कोई हल्के-फुल्के सीन. न ही वह हीरो के साथ डांस कर सकती थीं और ना ही इन पर कोई आइटम नंबर फरमाए जा सकते थे. अब इन्हें बहन-भाभी जैसे रोल ही ऑफर होने लगे थे. यही कारण था कि सीरियल के बाद रोल्स ऑफर तो हुए लेकिन वह लिमिटेड होते गए. इसी दौरान उन्होंने राजेश खन्ना के साथ कुछ फिल्में जरूर की यह फिल्में थी ‘रुपया 10 करोड़’, ‘खुदाई’ और ‘घर का चिराग’.

1991 में की शादी
राजेश खन्ना के साथ काम किया, तो मीडिया में खबरें आने लगीं कि काका के साथ उनकी नजदीकियां बढ़ रही हैं, लेकिन फिर उन्होंने अरेंज मैरिज कर इसका जवाब लोगों को दिया. उन्होंने बिजनेसमैन हेमंत टोपीवाला से शादी कर ली, जो कॉस्मेटिक कंपनी के मालिक थे. हेमंत उनके फैमिली फ्रेंड भी थे. 1991 में ये शादी हुई और शादी में राजेश खन्ना भी पहुंचे थे. इस शादी से उनकी दो बेटियां हुईं.

टैग: दीपिका चिखलिया, रामायण

(टैग्सटूट्रांसलेट)दीपिका चिखलिया(टी)दीपिका चिखलिया समाचार(टी)दीपिका चिखलिया फिल्में(टी)दीपिका चिखलिया फिल्में(टी)जब दीपिका चिखलिया ने बी ग्रेड फिल्मों में काम किया(टी)दीपिका चिखलिया उर्फ ​​सीता(टी)दीपिका चिखलिया को नाम और प्रसिद्धि मिली रामानंद सागर द्वारा रामायण(टी)रामानंद सागर रामायण(टी)कैसे रामानंद सागर ने सीता के रूप में दीपिका चिखलिया का नाम फाइनल किया(टी)दीपिका चिखलिया ने राकेश खन्ना के साथ काम किया(टी)दीपिका ने रामानंद सागर में कैसे काम किया रामायण(टी)दीपिका चिखलिया ने काम किया टीवी सीरियल

Source link

Previous articleकिचन में रखे इस मसाले का दूध में मिलाकर करें सेवन, दिमाग को करे कंप्यूटर सा तेज, गोल्डन मिल्क के कई फायदे
Next articleमशहूर सिंगर का हुआ निधन, डिप्रेशन से पीड़ित थीं कोको ली, ऑडियो मैसेज सुनने के बाद सदमे में फैंस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here