Home Bollywood माधुरी दीक्षित-काजोल की गलती, मनीषा कोइराला पर पड़ी भारी, बिना कुछ कहे...

माधुरी दीक्षित-काजोल की गलती, मनीषा कोइराला पर पड़ी भारी, बिना कुछ कहे नाना पाटेकर ने लगा दिया दांव

46
0

नई दिल्ली. साल 1996 में रिलीज हुई फिल्म ‘खामोशी द म्यूजिकल’ (Khamoshi – The Musical) एक्टर नाना पाटेकर, सलमान ख़ान और एक्ट्रेस मनीषा कोइराला के करियर की सबसे बेहतरीन फिल्मों में एक है. इस फिल्म से संजय लीला भंसाली ने अपने निर्देशन करियर की शुरुआत की. फिल्म बॉक्स ऑफिस पर ज्यादा कमाल नहीं कर पाई लेकिन यह उस साल की सबसे ज्यादा अवार्ड पाने वाली फिल्म थी. कई फिल्म क्रिटिक्स मानते हैं कि यह फिल्म स्टार कास्ट सहित बॉलीवुड की अब तक की बेस्ट फिल्म थी.

हालांकि आपको जानकर काफी हैरानी होगी कि भंसाली ने मनीषा कोइराला को सेंटर में ले कर इसकी कहानी नहीं लिखी थी. वह किसी अन्य एक्ट्रेस को लेकर ये फिल्म करना चाहते थे. हालांकि जब बात नहीं बनी तो मनीषा ने ‘एनी’ का किरदान निभाकर सुपरस्टार बन गईं. फिल्म में शानदार अभिनय के लिए मनीषा कोइराला को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के स्टार स्क्रीन पुरस्कार और फिल्म क्रिटिक चॉइस पुरस्कार से नवाजा गया.

भंसाली की पहली पसंद
आईएमबीडी की एक रिपोर्ट के अनुसार, संजय लीला भंसाली ने इस फिल्म की कहानी को माधुरी दीक्षित (Madhuri Dixit) को लेकर लिखा था. हालांकि माधुरी ने भंसाली के साथ काम करने से मना कर दी. माधुरी के अलावा भंसाली ने काजोल (Kajol) से संपर्क किया लेकिन काजोल ने भी उन्हें निराश कर दिया. ऐसे में आखिरी में ये फिल्म मनीषा कोइराला के हिस्से में आ गई.

khamoshi the musical

बता दें कि मनीषा कोइराला साल 1973 में आई सुपरहिट सौदागर फिल्म से बॉलीवुड पर छा गई थीं. यह उनकी पहली सुपरहिट फिल्म थी. इस फिल्म के बाद उन्होंने ‘1942 अ लव स्टोरी’ और ‘बॉम्बे’ जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्में दी. वह उन दिनों की सबसे डिमांडिंग एक्ट्रेस बन गई थीं.
” isDesktop=’true’ id=’6740337′ >

बन गईं सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री
लगातार सुपरहिट फिल्में दे रही मनीषा ने काफी रिस्क के साथ ” खामोशी” को चुना और उसमें जीतोड़ मेहनत से अभिनय का ऐसा सम्मोहन रचा कि जिसने भी फिल्म देखी, वह जीवन भर के लिए उनका मुरीद बन गया. फिल्म समीक्षकोंऔर दर्शकों ने इस फिल्म के बेतहासा प्यार दिया. हालांकि अफसोस ये रहा कि समय से पहले लिखी गई ये कहानी बॉक्स ऑफिस पर कमाल नहीं कर सकी. वहीं खामोशी में मनीषा कोइराला ने अपने रोम रोम से एहसास, संवेदनाओं को व्यक्त कर ये साबित कर दीं वह उस साल की सुपरस्टार हैं. इस फिल्म के लिए के लिए मनीषा कोइराला को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के स्टार स्क्रीन पुरस्कार और फिल्म क्रिटिक चॉइस पुरस्कार से नवाजा गया.

टैग: मनोरंजन विशेष, काजोल, -माधुरी ने कहा, मनीषा कोइराला, Sanjay leela bhansali

Source link

Previous articleजब अभिषेक-ऐश्वर्या की फिल्म में गोविंदा संग हुई ‘नाइंसाफी’, जूनियर आर्टिस्ट जैसा हुआ बर्ताव, बिना बताए ही…
Next articleखाने-पीने को लेकर भूलकर भी न करें 5 गलतियां, वरना शरीर पर झूलती रहेगी चर्बी, बीमारियों का बढ़ेगा खतरा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here