Home Film Review Detail Review: ‘द फ्लाइट अटेंडेंट’ की ये फ्लाइट सीधे आपके दिमाग पर...

Detail Review: ‘द फ्लाइट अटेंडेंट’ की ये फ्लाइट सीधे आपके दिमाग पर लैंड करती है

35
0

‘द फ़्लाइट अटेंडेंट’ की विस्तृत समीक्षा: क्रिस बोहजलीयन द्वारा लिखित और 2018 में प्रकाशित उपन्यास द फ्लाइट अटेंडेंट एक अनूठी किताब है. सबसे पहले तो ये फ्लाइट अटेंडेंट या एयरहोस्टेस की निजी और प्रोफेशनल ज़िंदगी पर इस कदर अंदरूनी निगाह डालता है कि एक पल पर आकर आपको फ्लाइट अटेंडेंट की ज़िंदगी से नफरत होने लगती है. उनकी ज़िंदगी में मायने ही नहीं मिलते, बड़ी उथली सी ज़िंदगी होती है और अकेलेपन से घिरे इस प्रोफेशन में फ्लाइट अटेंडेंट कैसे अपनी निजी ज़िंदगी का मानसिक तौर पर हनन करती रहती है, ये आपको सालता रहता है. उपन्यास बहुत पढ़ा गया.

2020 में इस पर एक टेलीविज़न सीरीज बनाने का निर्णय लिया गया और दर्शकों की पसंद को ध्यान में रखते हुए इसे एक डार्क कॉमेडी का रंग रूप दिया गया. टेलीविज़न इतिहास के चंद सुप्रसिद्ध शोज में से एक “द बिग बैंग थ्योरी” की लीड एक्ट्रेस केली कुओको को इसमें मुख्य भूमिका दी गयी. सबसे पहले ये सीरीज एचबीओ मैक्स पर रिलीज़ की गयी और एक लम्बे अर्से के बाद इसे अमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज़ किया गया. ये वेब सीरीज एक साधारण वेब सीरीज हो सकती थी लेकिन इसका प्लॉट ट्विस्ट और इसका प्रस्तुतिकरण एकदम अनूठा है, अलग है जिसकी वजह से इसे देखना ज़रूरी हो जाता है.

अमेरिका की केसी बाउडन (केली कुओको) एक फ्लाइट अटेंडेंट है, जिसकी ड्यूटी इंटरनेशनल फ्लाइट्स में होती है. अधिकांश अमेरिकी लड़कियों की तरह, अपनी ज़िंदगी में खालीपन को भरने की कोशिश में केसी अक्सर किसी पैसेंजर से नैन-मटक्का कर लेती है और फिर उस शहर में पार्टी और रात गुज़ारने के अपने प्लान को अंजाम देती है. ऐसे ही एक मौके पर बैंकॉक में एक रुसी बिजनेसमैन अलेक्स सोकोलोव (मीचिएल हुईसमान) के साथ पार्टी करने के बाद जब वो सवेरे उसके बिस्तर से उठती है तो देखती है की अलेक्स का गला काट कर उसकी हत्या कर दी गयी है. केसी वहां से भागती है लेकिन ये क़त्ल उसका पीछा नहीं छोड़ता.

अमेरिकी नागरिक द्वारा अंतर्राष्ट्रीय अपराध होने की वजह से एफबीआई भी इसकी जांच में शामिल हो जाती है और केसी खुद भी इस मसले से छुटकारा पाने के लिए अपने स्तर पर इसकी जांच करने की कोशिश करती है. केसी की मुसीबतें हर पल बढ़ती ही रहती हैं. उसे समझ नहीं आता की वो क्या करे. तिस पर उसे शराब पीने की बुरी आदत भी है जिस वजह से उसे मतिभ्रम होता रहता है और पुरानी बातें याद आती रहती है. 8 एपिसोड लम्बी इस श्रृंखला में केसी अपने आप को निर्दोष साबित करने की कोशिश करती रहती है. उसे सफलता मिलती है या नहीं, ये इस सीरीज का रहस्य है.

अदाकारी की फ्लाइट में केली कुओको का काम देखने लायक है. ज़्यादातर दर्शक उनमें द बिग बैंग थ्योरी की पेनी की तलाश कर रहे हैं लेकिन इस रोल में उन्होंने थोड़ा अलग किस्म का अभिनय किया है. अपने पिता से प्रभावित, थोड़ी टॉम बॉय किस्म के बचपन से गुज़री केसी के घर के पास एक हवाई जहाज़ दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है और उस हवाई जहाज़ की फ्लाइट अटेंडेंट सभी यात्रियों को बचा लेती है, बस तभी से वो भी फ्लाइट अटेंडेंट बनना चाहती है. केली के किरदार की विशेषता ये है कि वो शराब की अपनी लत को नियंत्रित करने का प्रयास भी नहीं करती और उसकी सहेली के लाख मन करने के बावजूद, एफ़बीआय को हर बार सच बोल देती है.

किरदार और भी हैं, और सभी किसी न किसी तरीके से कहानी को आगे बढ़ाते हुए नज़र आते हैं सिवाय एफ़बीआय एजेंट्स के जो कहानी को बार बार केली के खूनी होने की ओर ले जाना चाहते हैं और उस पर भरोसा भी नहीं करते. मीचिएल हुईमान की मौत तो पहले एपिसोड में ही हो जाती है लेकिन वो बार बार केली की यादों में आते रहते हैं और उसे सही निर्णय लेने के लिए कहते हैं. इनका किरदार भी बढ़िया है, अभिनय ठीक ठीक है. केली की सहेली और वकील के रूप में जोसिया ने भी अच्छा किरदार निभाया है. हमेशा संकट में साथ खड़े रहने वाले दोस्तों से ज़्यादा किसी को और ज़िंदगी में क्या चाहिए.

लगभग हर एपिसोड के लिए एक अलग निर्देशक लिया गया है, वजह समझ नहीं आयी लेकिन उन सभी का निर्देशन हर एपिसोड में फालतू का वैविध्य पैदा नहीं करता. उपन्यास को पटकथा में बदलने के लिए भी करीब करीब एक दर्ज़न लेखक लगे हैं. वेब सीरीज बढ़िया बननी चाहिए सिर्फ इसी उद्देश्य से अमेरिका में टीम काम करती है, एक से अधिक लेखक या निर्देशक होते हैं. इसका दूसरा सीजन इस साल अप्रैल में एचबीओ मैक्स पर रिलीज़ कर दिया गया है लेकिन अभी वो हिंदुस्तान के दर्शकों के लिए अमेजन पर नहीं आया है.

जिस तरीके की ये सीरीज है उसको देखते हुए लगता है कि जल्द ही इसका दूसरा सीजन देखना पड़ेगा क्योंकि दूसरे सीजन में केली का किरदार और बारीकी से गढ़ा गया है. सीजन 1 में भी फ्लैशबैक का इस्तेमाल नए तरीके से किया गया है, जिसमें केली के साथ घटी हुई पुरानी घटनाओं को केली और मीचिएल एक दर्शक की भांति अपने सामने होते हुए देखते हैं और उस घटना का विश्लेषण करते हैं. स्टोरी टेलिंग की ये तकनीक कम इस्तेमाल होती है और ज़्यादातर जासूसी फिल्मों में देखने को मिलती है लेकिन इस बार इसके ज़रिये कॉमेडी का पुट भी डाला गया है.

द फ्लाइट अटेंडेंट लम्बी है, बीच बीच में एक ही घटना पर बहुत ज़्यादा फोकस करती नज़र आती है इसलिए बोरिंग सी हो जाती है. केली कुओको को पसंद करने वाले दर्शकों को फिर भी ये सीरीज देखने में मज़ा आएगा. बिना किसी पूर्वाग्रह के सीरीज देखने वाले इसे ज़्यादा पसंद नहीं करेंगे.

डिटेल्ड रेटिंग

कहानी :
स्क्रिनप्ल :
डायरेक्शन :
संगीत :

टैग: समीक्षा, वेब सीरीज

Source link

Previous article‘Crash Course’ Review: ‘क्रैश कोर्स’ में असफल होने का डर साफ नजर आता है
Next article‘Ghar Waapsi’ Review: वेब सीरीज ‘घर वापसी’ से इत्तेफाक रखने वाले लाखों मिलेंगे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here