Home Film Review RRR Movie Review: जूनियर एनटीआर और राम चरण की जबरदस्‍त एक्‍शन फिल्‍म...

RRR Movie Review: जूनियर एनटीआर और राम चरण की जबरदस्‍त एक्‍शन फिल्‍म के असली हीरो हैं राजामौली

37
0

आरआरआर मूवी समीक्षा: जूनियर एनटीआर (junior NTR) , राम चरण (Ram Charan) और न‍िर्देशक एस. एस. राजामौली (S. S. Rajamouli) यानी तीन ‘आर आर आर’ (RRR Movie) वाला पैन इंडिया सपना, ज‍िसे उन्‍होंने कब से संयोज कर रखा था, आखिरकार आज पर्दे पर र‍िलीज हो ही गया. आरआरआर की रिलीज के साथ ही राजामौली ने लोगों को फिर से याद द‍िला द‍िया है कि स‍िनेमा न‍िर्देशक का माध्‍यम है. एक शानदार कहानी को अपने बस्‍ते में सजा कर चलने वाला निर्देशक देश के क‍िसी भी भाषा के स्‍कूल में अव्‍वल आ सकता है. राजामौली 10वीं में ‘बाहुबली’ के साथ पूरे ज‍िले में टॉप करने के बाद 12वीं में ‘आरआरआर’ के साथ ड‍िस्‍टेंशन लेकर पास हो गए हैं. हालांकि ‘बाहुबली’ वाली कसावट थोड़ी ढीली जरूर पड़ी है, लेकिन ‘लार्जर देन लाइफ’ स‍िनेमा क्‍या है, इस सवाल का जवाब एक बार फिर आपको ‘आरआरआर’ (RRR Movie Review) में मिल जाएगा.

कहानी की बात करें तो ह‍िंदुस्‍तान का वो दौर जब भारत परतंत्रता की बेड़‍ियों से जकड़ा हुआ था, तब आजादी की लड़ाई बेहद अलग-अलग स्‍तर पर लड़ी जा रही थी. उस दौर के पन्नों पर राजामौली ने एक काल्‍पनिक आजादी की कहानी तैयार की है. इस कहानी के दो हीरो हैं ज‍िन्‍हें न‍िर्देशक ने आग और पानी के रूप में द‍िखाया है. आग हैं राम (राम चरण) जो एक खतरनाक पुल‍िसवाले हैं और अंग्रेजों की सेना में ही काम करते हैं. ये एक ऐसा पुल‍िसवाला है जो अपने ऑफिसर के एक आदेश पर हजारों की भीड़ में अकेला घुस जाता है. दूसरा है पानी- सीधा, शांति और बस अपनी ही दुन‍िया में खुश रहने वाला भीम (जूनियर एनटीआर). भीम गोंड जाति का है, जो लोग जो बेहद शांति प्र‍िय हैं और झुंड में ही रहते हैं. कहानी इन दोनों के अपने-अपने संग्राम की है.

देख‍िए कहानी में बताने के लिए बहुत कुछ है, लेकिन जब न‍िर्देशक राजामौली ने अपनी इस फिल्‍म के इतना टलने के बाद भी इसकी कहानी छ‍िपाकर और संजोय कर रखी है तो स‍िनेमाघरों में जाना बनता है. इस फिल्‍म के हाई-पॉइंट्स की बात करें तो पहले नंबर पर आता है इसका एक्‍शन जो जबरदस्‍त है. राज चरण के इंट्रोडक्‍शन का जो सीन है, यकीन मान‍िए आप जब उसे पर्दे पर देखेंगे तो बार-बार द‍िमाग कहेगा कि ऐसा हो ही नहीं सकता, ये इंपॉस‍िबल है… लेकिन इसे ही न‍िर्देशक की कला कहेंगे कि इस सीन को भी उन्‍होंने इस तरह से रखा है कि आपका द‍िल आपके ही द‍िमाग को चुप करा देगा कि ‘अबे चुप, ऐसा हो सकता है. अपना राम चरण कोई बाहुबली से कम है के…’ क्‍लाइमैक्‍स का एक्‍शन तो इतना जबरदस्‍त है कि क्‍या कहें. कई सीक्‍वेंस ऐसे हैं, जो इससे पहले शायद आपने न देखें हों. खासकर भीम के कंधे पर बैठकर राम के जेल तोड़ कर भागने का सीक्‍वेंस काफी यूनीक है. देख‍िए ताल‍ियां तो आपकी न‍िकल पड़ेंगी, गारंटी मैं देती हूं.

आरआरआर, आरआरआर मूवी, आरआरआर मूवी समीक्षा, आरआरआर कलेक्शन, राम चरण, आरआरआर बॉक्स ऑफिस कलेक्शन

‘आर आर आर’ में जून‍ियर एनटीआर भीम के क‍िरदार में हैं.

फिल्‍म से श‍िकायत मेरी ये है कि ‘बाहुबली’ में जहां कहानी को लॉज‍िक के साथ सुपरफिशयल बनाया गया था, वहीं इस फिल्‍म में कुछ जगह तारतम्‍य छूटा है. एक सीन में एक तरफ भीम पुल‍िस से छ‍िपता हुआ हाथरस में दुबका हुआ है लेकिन एक सस्‍पेंस जैसे ही खुलता है, वो सारी नाकाबंदी को चुटकी में तोड़ता हुआ सीधा द‍िल्‍ली के पास जेल में ही पहुंच जाता है. साथ ही इंटरवेल से पहले आपको कुछ ह‍िस्‍सों में कहानी ख‍िंची हुई भी लग सकती है.

एक्टिंग की बात करूं तो ये फिल्‍म राम चरण और जूनियर एनटीआर की ही है… अगर प्रमोशन में नजर आई आल‍िया भट्ट को देख आप उनके सीन्‍स का बहुत इंतजार करेंगे तो धोखा हो जाएगा. राम चरण और जू. एनटीआर ने साबित कर द‍िया कि उनके लिए उनके फैंस की जो दीवानगी है, वो ऐसे ही नहीं है. ह‍िंदी की फिल्‍म में भी दोनों ही एक्‍टर्स ने अपनी आवाज का इस्‍तेमाल किया है और उनके आवाज पूरी तरह सूट भी की है. आपको ‘साउथ की फिल्‍म ह‍िंदी में डब कर देख रहे हैं’ ये फील‍िंग तो नहीं आएगी. दोनों ही कलाकार अपने-अपने क‍िरदार में जबरदस्‍त रहे हैं. वहीं अजय देवगन की बात करें तो उनका रोल भले ही छोटा है लेकिन स‍िर्फ कुछ म‍िनटों के सीन में भी अजय अपना असर छोड़ते नजर आए हैं. फिल्‍म देखते हुए बीच-बीच में मुझे जूनियर एनटीआर में ‘लगान’ वाला भुवन नजर आया. दोनों की मासूम‍ियत काफी एक जैसी लगती है.

आरआरआर, आरआरआर मूवी, आरआरआर मूवी समीक्षा, आरआरआर कलेक्शन, राम चरण, आरआरआर बॉक्स ऑफिस कलेक्शन

जूनियर एनटीआर और, राम चरण पहली बार एक साथ स्‍क्रीन पर नजर आएंगे.

न‍िर्देशक राजामौली की आर आर आर देखने के बाद ये तो साफ है कि स‍िर्फ साउथ की सुपरहिट फिल्‍मों की कहानी को कॉपी कर तो बॉलीवुड का बंटाधार नहीं हो सकता. पैन इंडिया फिल्‍म क्‍या होती है और कैसे बनती हैं, इसका न‍िर्देशक साहब एक ऑनलाइन कोर्स ला सकते हैं. पर्दे पर फिक्‍शन कहानी के आधार पर एक दुन‍िया रचने का हुनर राजामौली के पास है और उनके इस हुनर को देखते हुए इस फिल्‍म को मेरी तरफ से 4 स्‍टार.

डिटेल्ड रेटिंग

कहानी :
स्क्रिनप्ल :
डायरेक्शन :
संगीत :

टैग: रामचरण, आरआरआर मूवी

(टैग्सटूट्रांसलेट)आरआरआर(टी)आरआरआर मूवी(टी)आरआरआर मूवी रिव्यू(टी)आरआरआर कलेक्शन(टी)राम चरण(टी)आरआरआर बॉक्स ऑफिस कलेक्शन(टी)राजामौली(टी)एनटीआर(टी)आरआरआर बजट(टी)आरआरआर पूरा फॉर्म(टी)बाहुबली(टी)एसएस राजामौली(टी)बाहुबली 2(टी)आरआरआर ट्विटर(टी)जेआर एनटीआर(टी)आरआरआर कास्ट(टी)कोमाराम भीम(टी)अल्लूरी सितारामा राजू(टी)राम चरण जन्मदिन(टी) जूनियर एनटीआर एसएस राजामौली (टी) राम चरण (टी) एनटी रामा राव जूनियर (टी) हैदराबाद (टी) आरआरआर आईएमडीबी (टी) आरआरआर आईएमडीबी रेटिंग

Source link

Previous articleFilm Review ‘The Adam project’: आपका भविष्य आपके वर्तमान से मिलेगा, तो हंगामा होना ही है
Next articleAttack Movie review: जॉन अब्राहम ने एक्‍शन के चक्‍कर में देश के स‍िक्‍योर‍िटी स‍िस्‍टम को ‘कॉमेडी सर्कस’ बना द‍िया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here